Call Us for Consultation
Close

शिवलिंग पर चढ़ा जल प्रसाद के रूप में कर सकते हैं ग्रहण। जाने शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने के फायदे –

हिंदू धर्म में शिव जी के पूजन का विशेष महत्व है। देवों के देव महादेव को हिंदू धर्म में तीनों लोको का स्वामी माना जाता है। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि मनुष्य के अलावा देवी देवता भी शिव जी के चरणों में शीश नवाते हैं। शिवजी ही इस सृष्टि के निर्माण कर्ता और विनाशक है। सनातन धर्म से जुड़ा कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जो शिवजी की पूजा अर्चना ना करता हो। ऐसी धार्मिक मान्यता है कि यदि शिवजी प्रसन्न है तो व्यक्ति के जीवन की सभी अड़चने दूर हो जाएंगी, और एक बार यदि भगवान शिव रुष्ट हो गए तो फिर कोई भी आई विपदा को टाल नहीं सकता है।

शिवजी का पूजन करने से अकाल मृत्यु का संकट कटता है। कालसर्प दोष की बाधा दूर होती है। और व्यक्ति का जीवन सुख एवं समृद्धि से परिपूर्ण हो जाता है। शिव जी की पूजा शिवलिंग के अभिषेक के बगैर अधूरी है। शिव जी के पूजन में शिवलिंग का विशेष स्थान माना गया है। जल एवं दूध के द्वारा शिवलिंग का अभिषेक करने से मन की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार सच्ची श्रद्धा के साथ जो शिवलिंग का जल अथवा दूध से अभिषेक करता उसके जीवन के सभी कष्ट खत्म होते हैं।

शिवलिंग की पूजा से जुड़े भी कई नियम बनाए गए हैं। शिवलिंग को घर में स्थापित करना है, या औरतों द्वारा शिवलिंग का पूजन किस प्रकार करना चाहिए इन सबसे जुड़े नियम बनाए गए हैं। शिवलिंग जो शिवजी का निराकार स्वरूप है, नियमपूर्वक इसका पूजन कई कष्टों को हरता है। शिवलिंग पर जल चढ़ाने के भी कई फायदे हैं। इसके साथ ही शिवलिंग पर चढ़ा हुआ जल भी बहुत शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने के फायदेलाभकारी माना गया है। शिवलिंग पर चढ़ा हुआ जल पीना बहुत ही शुभ माना गया है। धार्मिक मान्यता के अनुसार शिवलिंग पर चढ़ा हुआ जल प्रसाद के रूप में ग्रहण करना बहुत ही शुभ एवं लाभकारी होता है।

आगे इस पोस्ट में पढ़े शिवलिंग पर चढ़ा हुआ जल पीने के क्या- क्या फायदे हैं ?

शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने के फायदे

शिवलिंग पर चढ़ा जल

शिव पुराण के अनुसार शिवलिंग का जल से अभिषेक करना बहुत ही पुण्यकारी होता है, इसके साथ ही शिवलिंग पर चढ़ा जल प्रसाद के रूप में ग्रहण करना और भी अधिक शुभ एवं लाभकारी माना गया है। शिवलिंग जो आकाश शून्य ब्रह्मांड अनंत और निराकार परम पुरुष का प्रतीक है, ये अपने अंदर सभी नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर अपने चारों तरफ सकारात्मक ऊर्जा फैलाता है। नियमित तौर पर शिवलिंग के करीब जाने से ही शरीर के अंदर मौजूद सभी नकारात्मक ऊर्जाएं नष्ट होने लगती है और शरीर में सकारात्मकता का विस्तार होने लगता है। जिससे व्यक्ति खुद को ऊर्जावान महसूस करने लगता है।

ऐसी धार्मिक मान्यता है कि जब शिवलिंग पर जल से अभिषेक किया जाता है, तो शिवलिंग द्वारा अपने आसपास मौजूद जो नकारात्मक ऊर्जा अवशोषित की जाती है वह खत्म होती है, और शिवलिंग द्वारा सकारात्मक ऊर्जा फैलाने की क्षमता बढ़ती है। धार्मिक मान्यता के अनुसार शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने से किसी व्यक्ति के शरीर के अंदर मौजूद नकारात्मक तत्व नष्ट होते हैं, शरीर रोग मुक्त होता है और मानसिक सुकून की प्राप्ति होती है। शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने के फायदे कुछ इस प्रकार हैं –

  • जो व्यक्ति शिवलिंग पर चढ़ा जल पीता है, उसका शरीर रोग मुक्त होता है।
  • शिवलिंग पर चढ़ा जल पीने से मानसिक शांति की अनुभूति होती है।
  • मस्तिष्क के अंदर मौजूद नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है और व्यक्ति तनाव मुक्त होता है।
  • धार्मिक मान्यता के अनुसार शिवलिंग पर चढ़ा जल चरणामृत का काम करता है, जो व्यक्ति के जीवन के सभी कष्टों को हर लेता है।

शिवलिंग पर चढ़ा जल पीते समय इन बातों का रखें ध्यान

शिवलिंग पर चढ़ा जल 2

शिवलिंग पर चढ़ाए गए जल को पीते समय इस बात का ध्यान रखें कि ये भगवान का प्रसाद है, अतः ये किसी अन्य व्यक्ति या आपके पैरों पर न गिरे। इसके साथ ही जब भी आप इस चरणामृत को पी रहे हो तो इस बात का खास ख्याल रखें कि उसे समय आप शिवलिंग को स्पर्श न कर रहे हो। शिवलिंग को स्पर्श करके कभी भी शिवलिंग पर चढ़ाए गए जल को नहीं पीना चाहिए।

Read This Also: रुद्राक्ष का पानी पीने के फायदे

Add Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *